स्वच्छता से ही स्वस्थ एवं सशक्त भारत संभव

ललित गर्ग  हर साल 24 सितंबर को विश्व सफाई दिवस होता है, इस दिवस का उद्देश्य सफाई कार्यों में भाग लेने के लिए समाज के सभी क्षेत्रों को प्रोत्साहित एवं प्रेेरित करके कुप्रबंधित अपशिष्ट संकट के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। व्यक्तियों,…
Read More...

चिकित्सा क्षेत्र में क्रांति का शंखनाद है अमृता अस्पताल

-ललित गर्ग- अध्यात्म और मानव कल्याण की दिशा में सराहनीय प्रयासों के लिये श्री माता अमृतानन्दमयी देवी (अम्मा) (Shri Mata Amritanandamayi Devi (Amma)) दुनियाभर में मशहूर हैं। वे सारे विश्व में अपने निःस्वार्थ प्रेम और करुणा के लिये जानी…
Read More...

आत्मा को ज्योतिर्मय करने का पर्व पयुर्षण

- ललित गर्ग - Paryushan Festival : पयुर्षण पर्व जैन समाज का आठ दिनों का एक ऐसा महापर्व है जिसे खुली आंखों से देखते ही नहीं, जागते मन से जीते हैं। यह ऐसा मौसम है जो माहौल ही नहीं, मन को पवित्रता में भी बदल देता है। आधि, व्याधि, उपाधि की…
Read More...

कम से कम ‘गलत’ और ‘अपराध’ का साथ तो न दें

- ललित गर्ग - कुछ ऐसे व्यक्ति सभी जगह होते हैं जिनसे हम असहमत हो सकते हैं, पर जिन्हें नजरअन्दाज करना मुश्किल होता है। ऐसे ही सिद्धान्त एवं मूल्यहीन व्यक्तियों की विडम्बनाओं से समाज एवं राष्ट्र परेशान है, लेकिन विडम्बना इससे बड़ी यह है कि…
Read More...

‘शुक्रिया’ एवं ‘कृतज्ञता’ से संवरती है जिन्दगी

- ललित गर्ग - इंसानी जीवन का एक सत्य है कि आदमी दुख भोगना नहीं चाहता, किन्तु काम ऐसे करता है, जिससे दुख पैदा हो जाता है। यह आश्चर्य की ही बात है कि आदमी चाहता है सुख और इस प्रयत्न में निकाल लेता है दुख। यह बहुत विरोधाभासी बात है। लेकिन…
Read More...

राष्ट्र को दागी नेताओं से मुक्ति कब मिलेगी?

-ललित गर्ग- भारतीय राजनीति में आपराधिक छवि वाले या किसी अपराध के आरोपों का सामना कर रहे लोगों को जनप्रतिनिधि बनाए जाने एवं महत्वपूर्ण मंत्रालय की जिम्मेदारी देने के नाम पर गहरा सन्नाटा पसरा है, जो लोकतंत्र की एक बड़ी विडम्बना बनती जा रही…
Read More...

Adsense CPC और Revenue कैसे बढ़ाये, सीखें

Website/Blog : पैसे कमाने के बहुत सारे तरीके है और आमतौर पर विज्ञापन लगाकर News Website Or ब्लॉग से पैसे कमाये जाते है और ब्लॉग पर विज्ञापन लगाने के लिए Google Adsense का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है परन्तु अगर आपके website/ब्लॉग…
Read More...

जानें, नोट पर क्यों लिखा होता है ‘मैं धारक को 100 रुपये अदा करने का वचन देता हूं’?

हम मार्केट से रोजाना  कुछ ना कुछ खरीदते है और उसमे नोटों का आदान-प्रदान करते हैं.सभी नोट की अपनी अलग वैल्यू होती है और उसके बदले दुकानदार या ग्राहक नोटों का विनिमय करते हैं. देश में मौजूद नोटों के मूल्यों का जिम्मेदार आरबीआई (RBI)गवर्नर…
Read More...